top of page
  • globalnewsnetin

अंतर्राष्ट्रीय डांस मंच पर जुडवां बहनों ने स्वर्ण पदक हासिल कर ट्राइसिटी का नाम चमकाया


चंडीगढ़:  दक्षिण कोरिया में  हाल ही में आयोजित हुए वर्ल्ड डांस फेस्टिवल में ट्राइसिटी की 13 वर्ष आयु की दो प्रतिभाशाली जुड़वां बहनों तान्या और तनीषा ने दो स्वर्ण पदक जीत कर रीजन का नाम रोशन किया है। यह दोनों लड़कियां रॉकस्टार एकेडमी से हैं और 4 साल की उम्र से एकेडमी में  प्रशिक्षण प्राप्त कर रही हैं।

 

इंटरनेशनल डांस ऑर्गनाइजेशन (आईडीओ), दक्षिण कोरिया द्वारा आयोजित किए गए डांस फेस्टिवल में उत्तर भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए तान्या और तनीशा का चयन किया गया। इससे न केवल ट्राइसिटी बल्कि देश का नाम भी रोशन हुआ है। चैम्पियनशिप में 20 से अधिक देशों ने भाग लिया।

 

तान्या और तनीशा, उनके मेंटर्स रॉकस्टार एकेडमी के प्रबंध निदेशक और डांस डायरेक्टर, समीर महाजन और साक्षी रौथाण जो   एकेडमी  की कॉ-फाउंडर हैं, लड़कियों की कथक कोच हरप्रीत दुबे और दोनों बच्चियों के पिता विनोद कुमार ने कोरिया में बच्चियों की जीत की जानकारी देने के लिए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया।

 

इस अवसर पर जुडवां बहनों तान्या और तनीशा ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि दो गोल्ड मेडल उन्हें माडर्न कंटेम्परेरी कैटेगरी तथा फोकलोर में प्राप्त हुए  है तथा इन्हें पाकर वे बहुत ही गौरवान्वित महसूस कर रही है क्योंकि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धा करने के लिए हमने कड़ी मेहनत की है और साथ ही इससे हमें भविष्य की प्रतियोगिताओं में और भी बेहतर प्रदर्शन करने की प्रेरणा मिली है।

 

समीर महाजन जो कि एक एक्टर, परफ़ॉर्मर एवं कोरियोग्राफर भी हैं, ने बताया कि इस जोड़ी ने अप्रैल में डांस वर्ल्ड कप बेंगलुरु में प्रदर्शन किया था, जहां उन्होंने कई प्रतियोगियों में पहला स्थान हासिल किया । इतना ही नहीं, जून में आयोजित एशिया पैसिफिक डांस कांग्रेस दुबई में भी यह जोड़ी विजेता रही थी, जहां मशहूर बॉलीवुड कोरियोग्राफर सलमान यूसुफ खान और तुषार कालिया जज थे। उन्होंने बताया कि दोनों बच्चे रॉकस्टार एकेडमी में 4 साल की उम्र से  डांस सीख रहे हैं। उन्होंने बताया कि एकेडमी की ट्राइसिटी और आसपास के क्षेत्रों में कुल 18 शाखाएं हैं।समीर ने बताया कि वर्ल्ड डांस फेस्टिवल एक आईडीओ, कोरिया द्वारा आयोजित कार्यक्रम था जिसमें आईडीओ  के 20 से अधिक सदस्य देशों ने भाग लिया। समीर ने कहा कि प्रदर्शन कला के लिए आईडीओ इंडिया नॉर्थ के वह ब्रांड एंबेसडर और लोक एवं युगल नृत्य के प्रमुख हैं। उन्होंने बताया कि साक्षी रौथान ने भी फोक लोर-सोलो श्रेणी में सियोल में स्वर्ण पदक जीता है।

 

जुड़वाँ बहनों ने बताया कि कि जब हम अंतरराष्ट्रीय स्तर के कलाकारों को अपने सामने देखते हैं तो घबरा जाना बहुत स्वाभाविक है, लेकिन हमारे राकस्टार एकेडमी के शिक्षकों ने हमेशा हमें खुद पर और अपने कौशल पर विश्वास करने के लिए कहा,  जो हमने मंच पर किया। उन्होंने बताया कि पिछले कुछ वर्षों में विभिन्न प्रतियोगिताओं और रियलिटी शो में लगातार भाग लेने और विभिन्न स्तरों पर उन्हें जीतने से उनके अंदर आत्मविश्वास विकसित हुआ है।

 

हमारे गुरु समीर सर, साक्षी मैम और हरप्रीत मैम ने हमें सर्वश्रेष्ठ बनने के लिए प्रेरित किया है। इन वर्षों में माता पिता का निरंतर समर्थन और मार्गदर्शन हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण साबित हुआ।

 

अपनी दिनचर्या के बारे में बच्चियों ने कहा कि दैनिक आधार पर हमारी नृत्य कक्षाएं और अध्ययन का समय होता है, इसके साथ-साथ हम अपनी व्यक्तिगत पसंद के लिए कुछ खाली समय रखते हैं जिसमें हम नृत्य वीडियो देखना, गेम खेलना और परिवार के साथ गुणवत्तापूर्ण समय बिताना ये सब  करते हैं ।

 

जुड़वा बहनों ने कहा कि  कि उनका अगला उद्देश्य विभिन्न नृत्य शैलियों को सीखना और तलाशना है। साथ ही वह अपने कौशल को निखार कर राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आगामी कार्यक्रमों में भाग लेना चाहती  है।

コメント


bottom of page