• globalnewsnetin

अमरिंदर सहित सात गैर भाजपा मुख्‍यमंत्री देश के लाखों छात्रों के जीवन के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं


चंडीगढ़ (अदिति) - भारतीय जनता पार्टी के राष्‍ट्रीय मंत्री तरूण चुग ने कांग्रेस के पंजाब के मुख्‍यमंत्री केप्‍टन अमरेंद्र सिंह सहित गैर भाजपा सात मुख्‍यमंत्रियों द्वारा एनईईटी तथा जेईई की परीक्षाओं के विषय व छात्रों के साथ खिलवाड़ करने को दुखद बताते हुए कहा है कि छात्रों की सुरक्षा सर्वोपरि है। परीक्षा केंद्र पर किस तरह सभी सावधानियों का पालन किया जाएगा और गाइडलाइन्स को लागू किया जाएगा इसकी ट्रेनिंग सभी को दी जा रही है। 

चुग ने कहा कि कांग्रेस नेता झूठ बोल रहे हैं जबकि कोरोना संकट के कारण इस बार परीक्षा केंद्रों और विजिलेटर्स की संख्या में बढ़ोतरी की गई है। पिछले साल कुल 2546 सेंटर्स थे, लेकिन इस बार बढ़ाकर 3842 तक पहुंच गया है। एक क्लासरूम में 25 स्टूडेंट रहते थे, लेकिन अब सिर्फ 12 बच्चों को बैठाया जाएगा । ABHYAS ऐप बनाई है तथा अब तक 16 लाख बार ये एप्लिकेशन डाउनलोड की जा चुकी है, जबकि छात्रों ने अभी तक करीब सौ टेस्ट ऐप पर ही किए हैं। NEET से इतर JEE परीक्षाओं को लेकर इस बार छात्रों के लिए ऑड-ईवन सिस्टम लागू किया गया है। कोरोना वायरस के बीच सरकार परीक्षाओं के लिए आगे बढ़ रही है। करीब तीन घंटे में ही 17 लाख से अधिक छात्रों ने अपने एडमिट कार्ड डाउनलोड कर लिए हैं।

चुग  ने कहा कि केंद्र की श्री नरेंद्र मोदी जी की सरकार लाखों छात्रों की सुरक्षा के प्रति वचनबद्ध  है तथा  विद्यार्थियों के शैक्षणिक कैलेंडर वर्ष को बचाने के साथ साथ कई उम्मीदवारों का एक वर्ष बर्बाद न हो, इसलिए प्रवेश परीक्षाओं का संचालन करना आवश्यक है। सरकार इसके लिए प्रयासरत है कि एक साल की बचत हो, भले ही सत्रों में थोड़ी देरी हो। छात्रों का करियर लंबे समय तक नहीं लटकाया जा सकता है और पूर्ण शैक्षणिक वर्ष को बर्बाद नहीं किया जा सकता है।”

चुग ने कहा कि देश 1 सितंबर 2020 से अनलॉकडाउन (अनलॉक 4.0) के चौथे चरण में प्रवेश करने वाला है, और कई गतिविधियां सुचारू रूप से चलने लगी हैं। वर्तमान वर्ष 2020-21 का अकादमिक कैलेंडर भी प्रतिकूल रूप से प्रभावित हुआ है, क्योंकि प्रवेश परीक्षाओं की अनुपस्थिति में, इंजीनियरिंग और चिकित्सा स्नातक पाठ्यक्रमों के पहले सेमेस्टर में प्रवेश अब तक नहीं हो सके। इसने छात्रों के शैक्षणिक कैरियर पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है।

चुग ने कहा कि भाजपा सरकार ने छात्रों की सुरक्षा को ध्‍यान में रखते हुए उम्मीदवारों को उचित सोशल डिस्टेंस कायम रखने के लिए “क्या करना है, क्या नहीं” (Do’s and Don'ts)  के बारे में एडवाइजरी जारी की गई है। उम्मीदवारों की स्थानीय आवाजाही (लोजिस्टिक) को सुविधाजनक बनाने के लिए 12.08.2020 और 25.08.2020 को राज्य सरकारों को पत्र भी लिखा है, ताकि छात्र अपने परीक्षा केंद्रों पर समय पर पहुंच सकें।परीक्षा आयोजित होने वाले शहरों में उम्मीदवारों/एस्कॉर्ट्स/ परीक्षा कर्मियों के आवाजाही की सुविधा, कानून-व्यवस्था बनाए रखने के साथ साथ भीड़ प्रबंधन के लिए पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था और परीक्षा केंद्रों पर पर्याप्त पुलिस बल की तैनाती की जाएगी।

चुग ने कहा कि परीक्षा केंद्रों पर COVID-19 दिशानिर्देश/सलाह के समुचित कार्यान्वयन में सिटी कोऑर्डिनेटरों को आवश्यक मदद देने के लिए संबंधित अपने जिला/फील्ड अधिकारियों को उपयुक्त निर्देश जारी किए गए हैं। कोरोना संकट के कारण इस बार परीक्षा केंद्रों और विजिलेटर्स की संख्या में बढ़ोतरी की गई है जबकि कैप्‍टन अमरेंदर सिंह जी सहित गैर भाजपा मुख्‍यमंत्री केवल इस पर राजनीति कर रहे हैं। उन्‍हें देश के लाखों छात्रों के भविष्‍य उनकी शिक्षा, उनके लक्ष्‍य की चिंता नहीं है अपितु अपनी राजनैतिक रोटियां सेकने हेतु बयान बाजी कर रहे हैं। जबकि देश के 17 लाख छात्रों ने अपना एडमिट कार्ड डाऊनलोड कर परिक्षाओं को परोक्ष रूप में समर्थन दे दिया है। 

 Global Newsletter

  • Facebook
  • social-01-512
  • Twitter
  • LinkedIn
  • YouTube