• globalnewsnetin

आबकारी विभाग ने डेरा बस्सी से 27,600 लीटर नाजायज़ रसायन युक्त स्पिरिट की बड़ी खेप पकड़ी


चंडीगढ़ / मोहाली,(गुरप्रीत): राज्य में नाजायज़ शराब के धंधे और तस्करी के खि़लाफ़ बड़ी कार्यवाही करते हुए आबकारी विभाग को रविवार को उस समय बड़ी कामयाबी मिली जब उसने रसायन युक्त 27,600 लीटर नाजायज़ स्पिरिट की खेप पकड़ी। यह अब तक की इस प्रकार की सबसे बड़ी खेप है, जो विभाग द्वारा पकड़ी गई है।

और विवरण देते हुए आबकारी एवं कर विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया कि उसकी मोहाली से एक विशेष टीम जिसमें डी.एस.पी. बिक्रम बराड़ भी शामिल थे, ने तीन स्थानों से 27,600 लीटर रसायन युक्त नाजायज़ स्पिरिट की बड़ी खेप पकडऩे में सफलता हासिल की। इसको 200 लीटर प्रति के सामथ्र्य वाले 138 ड्रम्मों में स्टोर करके रखा गया था। यह खेप मोहाली जि़ले की तहसील डेरा बस्सी के गाँव देवी नगर से पकड़ी गई है। विभाग द्वारा मैसर्ज ऐलीकैम कैमीकल्ज़ गोदाम जो कि ई -68 /69, फोकल प्वाइंट, डेरा बस्सी में स्थित है, में की गई छापेमारी के दौरान 200 लीटर प्रति के सामथ्र्य वाले 82 ड्रम्म बरामद किए गए। इसके बाद में डी -11, फोकल प्वाइंट, डेरा बस्सी में मैसर्ज ओम सोलवी ट्रेडिंग में की गई छापेमारी के दौरान 200 लीटर प्रति के सामथ्र्य वाले 49 ड्रम्म और मैसर्ज प्योर सोल्यूशनज़ के एफ-28, फोकल प्वाइंट, डेरा बस्सी में स्थित गोदाम पर की गई छापेमारी के दौरान 200 लीटर प्रति के सामथ्र्य वाले 7 ड्रम्म बरामद किए गए।

प्रवक्ता ने आगे बताया कि इस मामले में चार व्यक्तियों को गिरफ़्तार किया गया है, जिनमें उपरोक्त फर्मों के मालिक भी शामिल हैं।

इन फर्मों के तार विभाग द्वारा 23 जुलाई को नकली शराब के कारण घटे दुखांत से तकरीबन एक हफ़्ता पहले की गई छापेमारी से जुड़ते हैं, जबकि 5300 लीटर रसायन और स्पिरिट की खेप मैसर्ज बिन्नी कैमीकल्ज़ के गोदाम से बरामद की गई थी। यह फर्में मैसर्ज बिन्नी कैमीकल्ज़ को सामान की सप्लाई करती थीं, जिसको बिन्नी कैमीकल्ज़ द्वारा आगे बाज़ार में बेच दिया जाता था।

पूछताछ में दोषियों ने यह खुलासा किया है कि वह फार्मास्यूटीकल कंपनियों के माल का निपटारा करती थीं। परन्तु दोषियों द्वारा उनके द्वारा बनाए जा रहे उत्पाद और अपने ग्राहकों संबंधी कुछ नहीं बताया गया।

इस मामले में रिकॉर्ड की जांच करने और दोषियों के अगले संबंधों की जांच करने के लिए पड़ताल ज़ोर-शोर से जारी है और आबकारी विभाग द्वारा फोरेंसिक विज्ञान लैबोरेट्री के रासायन माहिरों की सेवाएं भी ली जा रही हैं।

जि़क्रयोग्य है कि पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने आबकारी विभाग को स्पष्ट हुक्म दिए हैं कि नाजायज़ शराब के धंधे में शामिल लोगों के खि़लाफ़ पूरी सख़्ती से कार्यवाही की जाए और कोई नरमी न बरती जाए।

 Global Newsletter

  • Facebook
  • social-01-512
  • Twitter
  • LinkedIn
  • YouTube