top of page
  • globalnewsnetin

उद्यान विभाग आज से शुरू करेगा विदेशों से आयातित एवं स्वयं उत्पादित उन्नत किस्मों के फल पौध की बिक्री


शिमला (अच्युत धवन) हिमाचल के उद्यान विभाग के एक प्रवक्ता ने यहां जानकारी दी कि विभाग इस वर्ष भी आयातित एवं स्वयं उत्पादित फल पौधों की बिक्री आज 15 दिसम्बर, 2022 से शुरू करने जा रहा है। विश्व बैंक द्वारा वित्त-पोषित एचपी-एचडीपी परियोजना के तहत लगभग 3-4 लाख (ग्राफ्टेड) एवं 7-8 लाख (सेब के क्लोनल रूट स्टॉक) जिसमें मुख्यतः सेब, नाशपाती, आडू, पल्म, चेरी, खुर्मानी, अखरोट इत्यादि रोगमुक्त पौध सामग्री की बिक्री की जाएगी।

उन्होंने कहा कि पौध वितरण ‘पहले आओ पहले पाओ’ के आधार पर किया जाएगा, हालांकि पहली वरीयता उन क्लस्टर किसानों को दी जाएगी जिन्होंने पहले ही अपने संबंधित विकास खंड अधिकारियों के समक्ष अपनी मांग रखी है एवं विश्व बैंक द्वारा उन्हें वित्त-पोषित एचपी-एचडी परियोजना में शामिल किया गया है। उन्होंने कहा कि यदि पौध उपलब्ध होगी तो अन्य गैर-क्लस्टर किसानों को भी पौधे प्रदान किए जाएंगे। पौध उचित पैकिंग के पश्चात् किसानों के घर-द्वार पर उपलब्ध करवाई जाएगी।

प्रवक्ता ने कहा कि सेब के (ग्राफ्टेड) पौध की प्रमुख किस्में जिसमें मुख्यतः जेरोमाइन, रेड वेलॉक्स, रेड कैप वाल्टोड, ओरेगन स्पर-2 सुपर चीफ, किंग रोट, ग्रैनी स्मिथ, शैलेट स्पर, स्कारलेट स्पर-2, चेलान स्पर, अर्ली रेड वन, डार्क बैरन गाला, रेड्लम गाला, गैलगाला, बकआई गाला, ब्रुक फील्ड गाला, गालावल व अन्य गाला, आविल अर्ली फूजी, रेड फूजी, सन फूजी, गिब्सन गोल्डन, गोल्डन, जिंजर गोल्ड आदि शामिल हैं की विभिन्न रूट स्टॉक पर प्रदान किए जाएंगें।

0 comments

Comments


bottom of page