top of page
  • globalnewsnetin

कालका-शिमला रेलमार्ग बुरी तरह क्षतिग्रस्त, ट्रेनों की आवाजाही ठप


सोलन: हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश जमकर अपना कहर बरपा रही है। भारी बारिश के चलते जगह जगह भूस्ख़लन की घटनाएं भी सामने आ रही है। वहीं बड़ी बात तो ये है कि 120 साल पुराने रेलमार्ग की पटरी आज हवा में लटक गई है। बता दें भारी बारिश के चलते विश्व धरोहर कालका-शिमला रेल मार्ग बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया है। जिस कारण रेलवे मार्ग पर ट्रेनों की आवाजाही ठप हो गई हैं। 1898 और 1903 के बीच यह रेल लाइन तैयार की गई। 9 नवंबर, 1903 को कालका-शिमला रेलमार्ग की शुरुआत हुई थी। 1896 में इस रेल मार्ग को बनाने का कार्य दिल्ली-अंबाला कंपनी को सौंपा गया था। रेलमार्ग कालका स्टेशन 656 (मीटर) से शिमला (2,076) मीटर तक जाता है। 96 किमी लंबे रेलमार्ग पर 18 स्टेशन है। यह पहली बार है जब कालका-शिमला ट्रैक को इतना बड़ा नुकसान हुआ है।



Comments


bottom of page