top of page
  • globalnewsnetin

गुरुग्राम के लेजरवैली में आयोजित भागवत कथा महोत्सव के अंतिम दिन बोले परमानन्द गिरी जी महाराज


गुरुग्राम: लेजरवैली में भागवत कथा महोत्सव के अंतिम दिन अखंड परमधाम के संरक्षक महामंडलेश्वर परमानन्द गिरी जी महाराज ने उपस्थित श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए तीन राज्यों में बीजेपी की जीत को संस्कृति और संतों का सम्मान करने वालों की जीत बताया। उन्होंने अपने संबोधन की शुरुआत में कहा कि भगवान भी कृष्ण अवतार में धरती पर अपने उद्देश्य से आए और काम पूरा होने पर चले गए। हम सब भी पूर्व जन्म के कर्म फल भोगने और मुक्त होने के लिए आए हैं। कोई भी संसार में रहने के लिए नहीं आता। बल्कि समय पर अपना काम करके जाना है। हम सबको भी खुश होकर अपना काम करना है और खुशी खुशी इस संसार से विदा लेनी चाहिए। सद्गुरु ने कहा कि भगवान श्री कृष्ण भी जब इस संसार से गए तो वे दुखी होकर नहीं गए और ना ही उन्होंने बाण मारने वाले को भी यही कहा कि यह सब तो तय था।

जगतगुरु परमानन्द गिरी जी महाराज ने कहा कि हम सबका जाना भी तय है इसलिए खुश होकर काम करो, न कि खुश होने के लिए काम करो। कथा के अंतिम दिन भक्तों को अपने उद्बोधन में उन्होंने तीन प्रांतों में भारतीय जनता पार्टी की जीत पर बोलते हुए कहा कि यह जीत संतों, मंदिरों, संस्कृति का सम्मान करने वालों जीत है और उन लोगों की हार है जो भगवा आतंकवाद कहते थे, जो राम को नकारते थे।

परमानन्द गिरी महाराज ने भी मंच से यह मांग दोहरा दी कि भारत हिन्दू राष्ट्र घोषित हो। उन्होंने श्रद्धालुओं से कहा कि जो हमारी संस्कृति, संतों और मंदिरों का सम्मान करते हैं और परम्पराओं का स्वयं पालन करते हैं, ऐसे लोगों को आगे भी सत्ता में लाना है ताकि हमारा देश का भविष्य और भी उज्जवल हो। उन्होंने कहा कि हम किसी राजनीतिक दल विपक्ष में नहीं है, लेकिन संतों और संस्कृति का सम्मान करने वालों के साथ हैं। उन्होंने कहा कि हम सब समरसता और एकता के पक्षधर हैं, लेकिन जब तक किसी मंदिर में मस्जिद की गुम्मद रहेगी तब तक एकता संभव नहीं है। गंगा जमनी तहजीब और भाईचारे के लिए जरूरी हैं कि मंदिरों पर बनी मस्जिदों की गुम्मदे हटें।

इससे पहले परमानन्द गिरी जी महाराज के शिष्य ज्योतिर्मयानंद गिरी ने कथा के अंतिम चरणों का वर्णन करते हुए कहा कि हमें अपने जीवन को मानवजाति के कल्याण के लिए समर्पित करना चाहिए। सबके रास्ते अलग हो सकते हैं, लेकिन उद्देश्य केवल मानव कल्याण होना चाहिए।

रविवार को महोत्सव में मुख्य अतिथि के रूप में भाजपा आईटी सेल के प्रदेश प्रभारी एवं कार्यकारिणी सदस्य अरुण यादव रहे, जबकि सेवा भारती की राष्ट्रीय सचिव श्रीमती रेणु, प्रदीप शर्मा विभाग सम्पर्क प्रमुख,बीजेपी प्रदेश सह मीडिया प्रमुख अरविंद सैनी विशिष्ट अतिथि के रुप में उपस्थित रहे। कथा महोत्सव के संयोजक एवं गौसेवा आयोग के वाइस चेयरमैन पूरन यादव लोहचब ने सबका आभार व्यक्त किया।कथा का मंच संचालन श्रीमती इन्दु राव ने किया । कथा आयोजन व कथा श्रवण मे श्रीमान राम नरेश राय , सुरेश गोयल , सोने लाल कश्यप, सतीश कुमार, हीरालाल, बलजीत (सुदामा जी ),राम सजन,कृष्ण मुरारी, प्रमोद शर्मा, उदय प्रकाश, पुरुषोत्तम सोनी जी सहित हज़ारों की संख्या रही।


गौशाला देखकर गदगद हुए परमानन्द गिरी महाराज ने थपथपाई पूरन यादव की पीठ


महामंडलेश्वर परमानन्द गिरी जी महाराज ने भागवत कथा संपन्न होने के बाद गौशाला का दौरा कर निरीक्षण किया। उन्होंने गौशाला में बनाई गई परिक्रमा की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा कि ऐसी गौशाला और प्रबंधन उन्होंने दूसरी अन्य गौशालाओं में नहीं देखा। महामंडलेश्वर परमानन्द गिरी जी ने गौशाला में गायों की सुविधाओं के लिए की गई व्यवस्थाओं पर गौसेवा आयोग के वाइस चेयरमैन पूरन यादव की प्रशंसा करते हुए उनकी पीठ थपथपाई।

गौसेवा आयोग के वाइस चेयरमैन पूरन यादव ने गौशाला आने पर महामंडलेश्वर परमानन्द गिरी जी महाराज का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि गायों के रखरखाव का यहां खास ध्यान रखा जाता है। गौभक्त भी नित्य आकर गायों की सेवा करते हैं। उन्होंने कहा कि लोगों में गौधन के प्रति रूझान बढ़ रहा है।

0 comments

Comments


bottom of page