top of page
  • globalnewsnetin

डेरा प्रमुख राम रहीम को पैरोल के विरुद्ध याचिका पर सुनवाई स्थगित


हरियाणा सरकार द्वारा डेरा प्रमुख राम रहीम को बार बार दी जा रही पैरोल के विरुद्ध दायर याचिका पर पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने सुनवाई स्थगित कर दी है । इस मामले में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी और एक अन्य संस्था ने राम रहीम को हरियाणा सरकार से मिली पैरोल को चुनौती दे राखी है। अपने जवाब में हरियाणा सरकार जवाब दे चुकी है कि डेरा प्रमुख को निर्धारित नियमों के तहत पैरोल दी गयी।

डेरा मुखी राम रहीम पैरोल की समयावधि पूरी होने के बाद वापस जेल लौट चुका है, लेकिन मामले में हाईकोर्ट के निर्देश और आदेशों से उसे भविष्य में मिलने वाली पैरोल से सम्बंधित फैसला आना है । शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी द्वारा दायर याचिका में डेरा प्रमुख राम रहीम समेत हरियाणा सरकार व अन्यों को प्रतिवादी पक्ष बनाया गया है। इनमें हरियाणा के मुख्य सचिव, गृह सचिव, रोहतक आयुक्त, पुलिस महानिदेशक, पंजाब गृह विभाग के प्रधान सचिव, केंद्रीय गृह सचिव, सुनारिया जेल अधीक्षक और रोहतक के उपयुक्त को प्रतिवादी बनाया गया है। याचिका में रोहतक मंडल आयुक्त द्वारा पैरोल देने में वैधानिक नियमों का उल्लंघन किए जाने के आरोप लगाए गए हैं।

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने 20 जनवरी को रोहतक आयुक्त द्वारा राम रहीम को 40 दिन की पैरोल देने के आदेश को हरियाणा सदाचार कैदी (अस्थायी रिहाई) अधिनियम 2022 की धारा-11 के प्रावधान के खिलाफ बताते हुए इसे रद करने की मांग की गई थी।

याचिका में पैरोल की समयावधि के दौरान राम रहीम के गैरकानूनी बयानों और गतिविधियों से खतरनाक परिणाम बारे हाईकोर्ट को अवगत कराया गया था। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी द्वारा पैरोल को भारत की संप्रभुता-अखंडता को खतरे में डालने और देश में सार्वजनिक सद्भाव, शांति व सामाजिक ताने-बाने को बनाए रखने के लिए खतरा बताया है। याचिका के अनुसार हत्या व दुष्कर्म जैसे मामलों में सजा काट रहे राम रहीम को पैरोल देना हरियाणा सरकार की नीति के खिलाफ है। इसके अनुसार राम रहीम अदालतों के तीन आदेशों के तहत सजा काट रहा है, लेकिन पैरोल का आदेश केवल एक मामले में जारी किया जाना बताया गया था। याचिका में डेरा प्रमुख द्वारा सिख समुदाय को अस्थिर करने के उपदेश देने से पंजाब और भारत के अन्य राज्यों में हिंसा भड़कने का अंदेशा जताया गया था। याचिकाकर्ता के अनुसार डेरा प्रमुख को गुरुग्रंथ साहिब जी के खिलाफ जहरीला प्रचार करने की आदत है। इससे सिखों और उनके बीच तनावपूर्ण संबंध बने हैं। पंजाब के विभिन्न थानों में इस संबंध में कई केस दर्ज हैं। इनमें डेरा प्रमुख के खिलाफ बेअदबी की कई एफआईआर भी शामिल हैं।

0 comments

Commenti


bottom of page