top of page
  • globalnewsnetin

निरंकारी कला एंव संगीत संस्थान का उद्घाटन


चण्डीगढ़: आज सन्त निरंकारी सत्संग भवन सैक्टर 30-ऐ चंडीगढ़ में सन्त निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन द्वारा संचालित निरंकारी इंस्टिटयूट आफ म्युजिक एंड आर्ट खोला गया जिसका उद्घाटन सन्त निरंकारी मण्डल के प्रधान श्री सी0 एल0 गुलाटी ने किया । इस अवसर पर उन्होंने बताया कि यह संस्थान चण्डीगढ़ की प्राचीन कला केंद्र से सम्बन्धित है, यहां से किए गये तीन साल के कोर्स की मान्यता स्नातक डिग्री के समान होगी । इस संस्थान में कोई भी सज्जन संगीत सीखने के भाव से या संगीत की डिग्री प्राप्त करने के भाव से केवल 300 रूपए प्रति मास की फीस देकर जितने समय के लिए वह चाहे संगीत सीख सकता है ।इस केंद्र में संगीेत के साथ साथ पेन्टीग और अन्य कला भी सिखाई जाएगी ।

इस अवसर पर देहली से आए सन्त निरंकारी मण्डल के सचिव श्री जोगिन्द्र सुखीजा जी भी उपस्थित थे, उन्होंने बताया कि सत्गुरू माता सुदीक्षा जी महाराज के आदेशानुसार सन्त निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन द्वारा भारत में स्थित अनेक ब्रान्चों में संगीत संस्थान खोले जा रहे है । अब तक खोले गए संगीत संस्थानों में से यह दसवां संगीत संस्थान है और निकट भविष्य में राजपुरा में भी एक ऐसा संस्थान वहां स्थित सन्त निरंकारी सत्संग भवन में खोले जाने की कार्यवाही जारी है।

इस से पहले हुए सत्संग में हज़ारों की संख्या में उपस्थित श्रोताओं को सम्बोधित करते हुए सचिव श्री जोगिन्द्र सुखीजा जी ने कहा कि आज इन्सान में इन्सान के प्रति प्यार की भावना का खत्म होती जा रही है जिस कारण एक दूसरे का सत्कार भी नहीं हो रहा । सत्कार भाव न होने से इन्सान का एक दूसरे पर विश्वास भी नहीं रहा तभी आज आपस में नफरत के भाव पैदा हो रहे है आज नफरत को प्यार में बदलने की जरूरत है और इसका समाधान केवल समय के सत्गुरू की शरण में जाकर इस प्रभु परमात्मा की जानकारी करना जरूरी है।

इस अवसर पर चण्डीगढ़ के ज़ोनल इन्चार्ज श्री ओ पी निरंकारी द्वारा प्रधान श्री गुलाटी जी व सचिव श्री सुखीजा जी और यहां उपस्थित चण्डीगढ़ जोन से आए हुए सभी संयोजक, मुखी व संगीत के विशेषज्ञ आदि का धन्यवाद किया।

Comentários


bottom of page