• globalnewsnetin

पराली से भी ब्रीकेट्स बनाए जाएंगे


चंडीगढ़ (अदिति) हरियाणा के सहकारिता मंत्री डॉ0 बनवारी लाल ने कहा कि पराली से भी ब्रीकेट्स बनाए जाएंगे और सरकार ने 120 रूपए प्रति क्विंटल के हिसाब से पराली खरीदने का निर्णय लिया है। इस फैसले से एक तो किसानों को आर्थिक लाभ पहुंचेगा, दूसरा प्रदूषण भी नहीं होगा।


डॉ0 बनवारी लाल आज दी-महम सहकारी चीनी मिल महम, रोहतक के पिराई सत्र का शुभारंभ करने के उपरांत उपस्थित किसानों तथा मिल स्टाफ के सदस्यों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि चीनी मिलों को घाटे से उबारने के लिए चीनी के साथ-साथ अन्य वस्तुओं का भी मिलों में उत्पादन किया जाएगा। कैथल चीनी मिल में बायोफ्यूल ब्रिकेट प्लांट संयंत्र लगाया गया है। इस प्लांट में बगास गिट्टी को एक आधुनिक इंधन के रूप में प्रयोग किया जाता है और यह कोयले का एक बेहतर विकल्प है। उन्होंने कहा कि यह प्रयोग दूसरे चीनी मिलों में भी किया जाएगा।


डॉ0 बनवारी लाल ने कहा कि चीनी मिलों की आमदनी बढ़ाने के लिए शाहाबाद चीनी मिल में एथलॉन बनाने का प्लांट मार्च माह में आरंभ होने जा रहा है। इसी प्रकार से महम, कैथल व पलवल की चीनी मिलों में आर्गेनिक गुड़ व शक्कर का उत्पादन 15-20 दिनों में आरंभ हो जाएगा। उन्होने कहा कि रोहतक चीनी मिल में रिफाइन्ड चीनी बनाने का कार्य शुरू किया गया है तथा इसकी पांच व एक किलो की पैकिंग में बनाई जाएगी।


उन्होंने किसानों को आश्वस्त किया कि सरकार किसानों को किसी भी तरह की दिक्कत नहीं आने देगी। उन्होंने घोषणा की कि अगले 15 दिनों में महम चीनी मिल में अटल किसान कैंटीन का शुभारंभ कर दिया जाएगा। इस कैंटीन में 10 रूपए के हिसाब से किसानों को मिल में खाना मिलेगा। उन्होंने कहा कि एक थाली पर 25 रूपए खर्च आता है, लेकिन किसान को केवल 10 रूपए देने होंगे, जबकि 15 रूपए सरकार द्वारा वहन किये जाएंगे। उन्होंने आदेश देते हुए कहा कि मिल की रिकवरी साढ़े 10 प्रतिशत होनी चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश की किसी भी चीनी मिल में किसानों की बकाया राशि नहीं है। उन्होंने कहा कि पारदर्शिता लाने के लिए चीनी मिलों में पूरी व्यवस्था ऑनलाइन की गई है तथा भुगतान भी ऑनलाइन तरीके से किया जा रहा है।


हरियाणा सहकारी चीनी मिल प्रसंग लिमिटेड पंचकूला के अध्यक्ष एवं शाहबाद से विधायक राम करण ने कहा कि गन्ना उत्पादक किसानों को कोई भी समस्या नहीं आने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि चीनी मिल के विकास के लिए किसान व मिल कर्मचारी सामूहिक रूप से मेहनत कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा पहला ऐसा राज्य है जहां किसानों को गन्ने का सर्वाधिक मूल्य दिया जा रहा है।


अतिरिक्त उपायुक्त महेंद्र पाल ने आए हुए मेहमानों का स्वागत किया और विश्वास दिलाया कि महम चीनी मिल सरकार की आशाओं पर खरा उतरेगा।


इससे पहले सहकारी चीनी मिल महम के 31वें पिराई सत्र का सहकारिता मंत्री डा0 बनवारी लाल, विधायक व शुगरफैड चेयरमैन हरियाणा रामकरण, एमडी शुगर फैड कैप्टन शक्ति सिंह, प्रबन्धक निदेशक चीनी मिल महम जगदीप सिंह की उपस्थिति में केन केरियर में गन्ना डालकर पिराई सत्र 2020-21 का शुभारम्भ किया।


सहकारिता मंत्री बनवारी लाल ने सर्वप्रथम मिल में गन्ना लेकर बैलगाड़ी से आए सत्यानारायण व राजकुमार निवासी सिंघवा, ट्रेक्टर में गन्ना लाने वाले चालक वजीर व बलजीत गांव बडाला तथा खरकड़ा प्रचेज सेंटर से ट्रक में गन्ना लाने वाले चालक राजेन्द्र सिंह व अनिल कुमार खरकखूर्द ड्राईवर को शॉल एवं नकदी देकर सम्मानित किया।


एमडी चीनी मिल महम जगदीप सिंह ने सहकारिता मंत्री डा0 बनवारी लाल, शाहाबाद के विधायक एवं शुगर फैड चेयरमैन रामकरण, एमडी शुगर फैड कैप्टन शक्ति सिंह, अतिरिक्त उपायुक्त महेन्द्रपाल, जिला मीडिया प्रभारी शमशेर खरक, राज्यसभा सांसद रामचन्द्र जांगड़ा के पुत्र अश्वनी जांगड़ा को स्मृति चिह्न एवं शाल भेंटकर सम्मानित किया।

 Global Newsletter

  • Facebook
  • social-01-512
  • Twitter
  • LinkedIn
  • YouTube