top of page
  • globalnewsnetin

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने मनाया अपना 105वाँ स्थापना दिवस


चंडीगढ़: यूनियन बैंक ऑफ इंडिया द्वारा शुक्रवार को अपना 105वां स्थापना दिवस " महोत्सव हमारी उन्नति का" शीर्षक के तहत बड़े ही हर्षोल्लास और उत्साह के साथ मनाया गया।

इस अवसर पर आंचलिक प्रमुख- अरुण कुमार, उप आंचलिक प्रमुख- एल एस पूरी, सुनील आहूजा और क्षेत्रीय प्रमुख, चंडीगढ़- संजीव कुमार सहित बैंक के पंजाब- हरियाणा सर्कल के पदाधिकारी व अन्य कर्मचारी उपस्थित थे। बैंक की प्रबंध महानिदेशक एवम प्रमुख कार्यकारी अधिकारी, सुश्री ए. मणिमेखालई जी ने उपस्थित सभी उपस्थित जन को स्थापना दिवस की मुबारकबाद दी।

आंचलिक प्रमुख- अरुण कुमार ने भी सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को स्थापना दिवस की शुभकामनाएं देते हुए बैंक के विस्तार और उपभोक्ताओं को बेहतर से बेहतर सेवाएं देने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की स्थापना 11 नवंबर 1919 को मुंबई में हुई थी। तब से लेकर अब तक बैंक के प्रोडक्ट्स, बेहतर सेवाओं और राष्ट्रीय स्तर पर विस्तार के चलते बैंक देश के 05 अग्रणी बैंकों में से एक है। उन्होंने बताया कि आज फाउंडेशन दिवस पर प्रबंध महानिदेशक एवम प्रमुख कार्यकारी अधिकारी , सुश्री ए. मणिमेखालई जी द्वारा 04 प्रोडक्ट्स लांच किए गए है और उपभोक्ताओं को अर्पित किए गए हैं। जो निश्चित रूप से उपभोक्ता के हितार्थ ही रहेंगे। अरुण कुमार जी ने बताया कि सितंबर 2023 तक बैंक का कुल व्यवसाय 19.85 लाख करोड़ रहा। देश भर में बैंक की 8521 शाखाएं, 10000 ए टी एम और 18000 बी सी पॉइंट के साथ लगभग 18 करोड़ उपभोक्ता बैंक से जुड़े हुए हैं।

अरुण कुमार जी ने आगे बताया कि बीमा और म्यूच्यूअल फण्ड के साथ बैंक फाइनांशियल मार्किट के रूप में कार्यरत है। बैंक में हर तबके के लिए प्रोडक्टस उपलब्ध हैं। छोटे से छोटे और बड़े से बड़े औधोगिक क्षेत्र के लिए प्रोडक्ट मौजूद हैं। फिर चाहे शिक्षा लोन हो या महिला विकास के लिए नारी शक्ति ऋण, सुनिधि ऋण इंफ्रास्ट्रक्चर ऋण, कार ऋण, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना ऋण या फिर रोजगार ऋण। सब उपलब्ध है, वो भी वाजिब और उपभोक्ता फ्रेंडली ब्याज सहित।

उन्होंने कहा कि देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में यूनियन बैंक ऑफ इंडिया का विस्तार है, शाखा नेटवर्क है।

अरुण कुमार जी ने ग्राहको को बेहतर सेवा सुविधा दिए जाने के प्रश्न पर कहा कि सेवा क्षेत्र में सुधार की हमेशा गुंजाइश रहती है और इसके लिए बैंक अनवरत प्रयासरत रहता है। यूनियन बैंक ऑफ इंडिया अपने कर्मचारियों को उपभोक्ताओं को बेहतर सेवाएं देने के लिए प्रशिक्षण देकर प्रोत्साहित करता रहता है, ताकि बैंक कर्मचारी उपभोक्ता की अपेक्षा अनुसार सेवाएं प्रदान कर सके। जिससे बैंक सर्विस से उपभोक्ता को कोई दिक्कत परेशानी न आए।

ความคิดเห็น


bottom of page