• globalnewsnetin

रक्षाबंधन पर महिलाओं को रोडवेज बसों में मिलने वाली मुफ्त यात्रा की सुविधा नहीं


चंडीगढ़, (अदिति)हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने रक्षाबंधन पर महिलाओं को रोडवेज बसों में मिलने वाली मुफ्त यात्रा की सुविधा इस बार नहीं दिए जाने और अतिरिक्त बसों का संचालन ना करने पर भाजपा-जजपा सरकार की कड़ी निंदा की है। उन्होंने सरकार से रक्षाबंधन पर महिलाओं के लिए रोडवेज बसों में हर वर्ष की तरह इस बार भी मुफ्त यात्रा प्रदान करने की मांग की है। इसके साथ ही उन्होंने रक्षाबंधन पर होने वाली भारी भीड़ और कोरोना महामारी को देखते हुए अतिरिक्त रोडवेज बस चलाने की भी मांग की है।

हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने कहा कि भाजपा-जजपा सरकार ने अभी कुछ दिनों पूर्व ही कोरोना महामारी के बीच प्रदेशवासियों को झटका देते हुए रोडवेज बसों के किराए में भारी बढ़ोतरी की थी। वहीं इसके बाद अब सरकार ने कोरोना महामारी की आड़ में यह फैसला किया है कि इस बार रक्षाबंधन के त्योहार पर प्रदेश में महिलाओं को रोडवेज बसों में मुफ्त यात्रा की सुविधा नहीं दी जाएगी। उन्होंने इस बात पर भी हैरत जताई कि सरकार रक्षाबंधन पर रोडवेज बसों की संख्या भी नहीं बढ़ा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार के यह फैसले बेहद ही निंदनीय हैं और सरकार की संवेदनहीनता को दर्शाते हैं।

हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने कहा कि भाई-बहन के पवित्र रिश्ते के प्रतीक रक्षाबंधन पर रोडवेज बसों में मुफ्त यात्रा की सुविधा 14 वर्ष पहले कांग्रेस सरकार द्वारा शुरू की गई थी। जो सुविधाएं कांग्रेस सरकार द्वारा जनता को दी गईं थी, उन्हें भी यह सरकार ऐसे महामारी के माहौल में छीन रही है। इस महामारी में राहत देने की बजाय यह सरकार लगातार जनविरोधी फैसले लेकर जनता पर और बोझ डाल रही है।

कुमारी सैलजा ने कहा कि कोरोना महामारी के चलते पहले ही बेहद कम मात्रा में रोडवेज बसों का संचालन हो रहा है। रक्षाबंधन पर होने वाली भारी भीड़ और इस बार कोरोना महामारी के चलते सरकार को चाहिए था कि वह इसके लिए पर्याप्त इंतजाम करती और बसों की संख्या बढाती। वहीं इसके उलट सरकार के यह फैसले बिल्कुल ही समझ से परे हैं।

कुमारी सैलजा ने हरियाणा सरकार से मांग करते हुए कहा कि सरकार अपने इस फैसले को वापस लेकर रक्षाबंधन पर महिलाओं के लिए रोडवेज बसों में मुफ्त यात्रा प्रदान करे। इसके साथ ही इस दिन हालात ना बिगड़ें, सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बसों में आरामदायक सफर हो सके, इसके लिए बसों की संख्या बढ़ाई जाए।

 Global Newsletter

  • Facebook
  • social-01-512
  • Twitter
  • LinkedIn
  • YouTube