• globalnewsnetin

राशन घोटाले की स्वतंत्र जांच की मांग की


चंडीगढ़ (गुरप्रीत) शिरोमणी अकाली दल तथा भारतीय जनता पार्टी ने आज राज्य भर के डिप्टी कमिशनरों को मांगपत्र सौंपकर कांग्रेस नेताओं की राशन में की हेराफेरी की स्वतंत्र जांच के अलावा सभी वंचित वर्गों को नीले कार्ड बहाल करने की मांग की।

जिला अध्यक्षों के साथ साथ सांसदों, पूर्व सांसदों, विधायकों, निर्वाचन क्षेत्र के प्रतिनिधियों, तथा वरिष्ठ नेताओं के नेतृत्व में अकाली-भाजपा नेताओं द्वारा राज्यपाल वीपी सिंह बदनौर को डिप्टी कमिशनरों द्वारा मेमोरेंडम सौंपते हुए कहा कि हालांकि उच्च न्यायालय ने अकाली दल के कार्यकताओं के ध्यान में लाने के बाद इस मुद्दे पर ध्यान दिया था तथा कांग्रेस सरकार से कहा था कि वह किसी के साथ भेदभाव न करे, यह तब तक नही होगा जब तक कि कांग्रेस नेताओं के कहने पर हटाए गए सभी नीले कार्ड बहाल नही हो जाते।

अकाली-भाजपा का एक सांझा प्रतिनिधिमंडल ने शिरोमणी अकाली दल अध्यक्ष सरदार सुखबीर सिंह बादल तथा पार्टी की कोर कमेटी के निर्णय के बाद ही यह निर्णय लिया गया तथा राशन घोटाले की स्वतंत्र जांच की मांग करते हुए कहा कि राज्य को भेजी गई केंद्रीय राहत का गलत उपयोग किया गया है।

अमृतसर में पत्रकारों से बातचीत करते हुए वरिष्ठ नेता गुलजार सिंह रणीके ने कहा कि गरीबों तथा कमजोर वर्गों को राहत देने की बजाय कांग्रेस सरकार गरीबों को ‘आटा दाल’ योजना के तहत् राशन देने से इंकार कर रही है। उन्होने कहा कि कांग्रेस पार्टी द्वारा इसका राजनीतिकरण करने से पहले यह योजना सरदार परकाश सिंह बादल ने शुरू की थी तथा हर किसी को बिना भेदभाव के राशन मिल रहा था। भाजपा के वरिष्ठ नेता श्वेत मलिक ने कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकार को आपदा प्रबंधन कोष के तहत् जमा 6000 करोड़ रूपए का इस्तेमाल जरूरतमंद लोगों को राहत देने के लिए करना चाहिए।

पार्टी के वरिष्ठ नेता डॉ. दलजीत सिंह चीमा ने रोपड़ में पत्रकारों से बातचीत करते हुए राशन घोटाले के अलावा 5600 करोड़ रूपए के शराब घोटाले 4000 करोड़ रूपए के बीज घोटाले की सीबीआई यां उच्च न्यायालय से स्वतंत्र जांच की मांग की।उन्होने यह भी मांग की है कि कांग्रेस सरकार निजी चीनी मिलों से गन्ना उत्पादकों को 383 करोड़ रूपए के बकाया का भुगतान करने के लिए कहे।

पार्टी के वरिष्ठ नेता सरदार महेशइंदर सिंह ग्रेवाल तथा सरदार शरनजीत सिंह ढ़िल्लों ने लुधियाना में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा है कि घरेलू तथा औद्योगिक बिजली उपभोक्ताओं का राहत देने के लिए कुछ भी नही किया जा रहा है। उन्होने कहा कि उद्योगों को दो महीने के नियमित शुल्क को हटाने के लिए भी कोई आश्वासन नही दिया गया है। उन्होने मांग की है कि लॉकडाउन की अवधि के दौरान नगर निगम की समितियों को संपत्ति टैक्स तथा दुकानों का किराया भी माफ किया जाए। उन्होने यह भी मांग की है कि टैक्सी तथा आटो रिक्शा मालिकों के ड्राइवरों को मुआवजा दिया जाए तथा उनके वाहन के रोड टैक्स छह महीने के लिए माफ किए जाएं।

मोहाली में बातचीत करते हुए पार्टी नेता श्री एनके शर्मा ने इंडस्ट्री तथा व्यापार वर्ग के लिए राहत पैकेज देने की मांग की तथा कहा कि इस सैक्टर को राज्य के हिस्से का जीएसटी अपने पास रखने की अनुमति दी जाए। उन्होने यह भी मांग की है कि खेत मजदूरों तथा दिहाड़ीदारों को भी राहत दी जाए तथा कहा कि कांग्रेस सरकार ने शराब के ठेकेदारों को 673 करोड़ रूपए तथा रेत माफिया को 150 करोड़ रूपए की राहत दी है।

अमृतसर में, वीर सिंह लोपोके, गुलजार सिंह रणीके तथा तलवीर सिंह गिल समेत यह मांग पत्र दिया। गुरदासपुर से गुरबचन सिंह बबेहाली, लखबीर सिंह लोधीनंगल तथा रविकिरन सिंह काहलों ने अकाली दल प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया। फिरोजपुर से अवतार सिंह जीरा, वरिंदर सिंह मान तथा जोगिंदर जिंदू ने प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया। कपूरथला से डॉ. उपिंदरजीत कौर तथा बीबी जागीर कौर ने प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया। लुधियाना में महेशइंदर सिंह ग्रेवाल, शरनजीत सिंह ढ़िल्लों, मनप्रीत अयाली तथा रणजीत सिंह ढ़िल्लों ने मांग पत्र दिया। मोगा से तीर्थ सिंह मलाह, बरजिंदर सिंह बराड़ तथा भूपिंदर सिंह साहोके ने प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया। जालंधर से गुरप्रताप सिंह वडाला, पवन टीनू, बलदेव सिंह खैहरा तथा सरबजीत सिंह मक्कड ने टीम का नेतृत्व किया। पटियाला से सुरजीत सिंह रखड़ा, हरपाल जुनेजा ने प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया। बठिंडा से सिकंदर सिंह मलूका, जगदीप नकई, सरूप सिंगला, तथा दर्शन सिंह कोटफत्ता ने मांग पत्र दिया। मानसा से बलविंदर सिंह भूंदड़, दिलजार सिंह भूंदड़, जगदीप निकाई तथा डॉ. निशान सिंह ने मांग पत्र दिया। मुक्तसर से कंवलजीत सिंह बरकंदी ने प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया। फरीदकोट से परमबंस सिंह रोमाना, मंतर सिंह बराड़ तथा सूबे सिंह बादल ने नेतृत्व किया। बरनाला से कुलवंत सिंह कीतू,बलबीर सिंह घूनस तथा सतनाम सिंह राही ने मांग पत्र दिया। होशियारपुर से सोहन सिंह ठंडल, मोहिंदर कौर जोश, अरविंदर रसूलपूर, जतिंदर सिंह लाली बाजवा तथा सरबजोत सिंह साबी, सुरेंद्र सिंह ने मांग पत्र दिया। रोपड़ से डॉ. दलजीत सिंह चीमा, हरमोहन संधू, परमजीत सिंह मक्कड़, परमजीत सिंह लखवाल ने मांग पत्र दिया। तरनतारन से विरसा सिंह वल्टोहा, हरमीत संधू, इकबाल सिंह तथा अल्विंदर पखोके ने मांग पत्र दिया। नवांशहर से डॉ. सुखविंदर सुक्खी, जरनैल सिंह वाहिद, बुद्ध सिंह बालाकी ने प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया।मोहाली से एनके शर्मा ने पार्टी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया। फतेहगढ़ साहिब से दरबारा सिंह गुरु, तथा गुरप्रीत सिंह राजुखन्ना ने प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया।

 Global Newsletter

  • Facebook
  • social-01-512
  • Twitter
  • LinkedIn
  • YouTube