top of page
  • globalnewsnetin

समाज को समर्पित रहा संत बाबा मान सिंह का जीवन: ओमप्रकाश धनखड़


कुछ दिन पूर्व चोला छोड़कर इस संसार को अलविदा कहते हुए उस परम पिता परमात्मा की गोद में जा विराजे संत बाबा मान सिंह जी की अंतिम अरदास में उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ जोरासी खुर्द, पेहवा जिला कुरुक्षेत्र पहुंचे। यहां उन्होंने बाबा जी को श्रद्धांजलि देते हुए उनके जीवन के संस्मरणों को याद करके उनका जाना समाज के लिए बड़ी क्षति बताया।

संत बाबा मान सिंह जी के जीवन व उनके सिद्धांतों को समाज के लिए मिसाल बताते हुए ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि संत महाराज ने पूरी दुनिया में घूमकर गुरमत सिद्धांतों का प्रचार किया। अमृत संचार किया और सिख इतिहास व सिख परंपराओं को दृढ़ता से लागू कराने में विशेष योगदान दिया। महाराज जी के पूरे संसार में अमेरिका, आस्ट्रेलिया, जर्मनी समेत 14 देशों में आश्रम हैं। जहां निरंतर सिख धर्म का प्रचार-प्रसार होता है।


अध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि जब भी कभी पूरे भारत में या विदेशों में आपदा आई, सरकारों से पहले पहुंचकर संत जी ने दुखियों, पीडि़तों को लंगर, वस्त्र और छत का प्रबंधन किया। संत जी का महानता यह भी थी कि उन्होंने चंदा-चढ़ावा की प्रथा नहीं चलाई। अपने संसाधनों से करोड़ों लोगों को लंगर, प्रसाद छकाने का काम किया। वो चाहे गुजरात के भुज में प्राकृतिक आपदा भूकंप हो, नेपाल हो, उड़ीसा हो या फिर राजस्थान का सूखा प्रभावित क्षेत्र हो। सभी जगह पर पीडि़तों की मदद के लिए उन्होंने आगे बढ़कर मदद की। पंजाब में कारगिल युद्ध के दौरान सीमा क्षेत्र में जाकर वहां के बाशिंदों को लंगर, वस्त्र व अन्य सहायता दी। फौज को भी राशन, फर्स्ट एड पहुंचाई।

0 comments

Comments


bottom of page