top of page
  • globalnewsnetin

सीआईआई और इंडियन ग्रीन बिल्डिंग कौंसिल ने संयुक्त रूप से किया ‘रियल एस्टेट 360’ का अनावरण


चंडीगढ़, भारतीय उद्योग परिसंघ - उत्तरी क्षेत्र (सीआईआई-एनआर) और इंडियन ग्रीन बिल्डिंग कौंसिल आईजीबीसी ने संयुक्त रुप से ‘रियल एस्टेट 360 का अनावरण किया जिसका उद्देश्य संबंधित सेक्टर में ईनोवेशन को बढ़ावा देना, निवेश को प्रोत्साहित करना और सतत विकास को प्रेरित करके रियल एस्टेट परिदृश्य को नया आयाम प्रदान करवाना है। कार्यक्रम के दौरान पंजाब ऐनर्जी डिवलपमेंट ऐथोरिटी (पेडा) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा अमरपाल सिंह वशिष्ट अतिथि के रुप में शामिल हुये। रियल एस्टेट 360 की थीम इनोवेट, इनवेस्ट, इंस्पायर - सीआईआई और आईजीबीसी की न केवल बदलाव को अपनाने बल्कि रियल एस्टेट के भीतर इसे आगे बढ़ाने की अटूट प्रतिबद्धता को रेखांकित करती है जिसके उद्देश्य प्रोफेशनल्स, एक्सपर्ट्स और स्टेकहोल्डर्स के लिये एक साथ आने और विचारों के आदान प्रदान करने के लिये तल प्रदान करवाना था। सीआईआई में रियल एस्टेट समीति के सह अध्यक्ष और भारतीय शहरी के सीईओ - रेजिडेंश्यिल अश्विंदर आर सिंह ने कहा कि चंडीगढ़ ट्राईसिटी भारत में टियर 2 और 3 शहरो की गिनती में आता है और रियल एस्टेट विकास के केन्द्र के रुप में उभर रहा है। शहरीकरण, बढ़ती आय और बेहतर बुनियादी ढांचे से प्रेरित ये शहर बेहतर जीवनशैली और प्रमुख नौकरी केन्द्रों से निकटता प्रदान करते हैं। भविष्य में यह शहर आशाजनक हैं । आईजीबीसी चंडीगढ़ चैप्टर के अध्यक्ष कर्नल शैलेश पाठक ने पंजाब और हरियाणा ग्रीन बिल्डिंग प्रोजेक्ट्स की वृद्धि पर बल दिया। उन्होंनें कहा कि पंजाब और हरियाणा में इस श्रेणी के प्रोजेक्ट्स के मामले में सबसे तेजी से बढ़ने वाले राज्य हैं। टिकाउ डिजाईन, निर्माण और सर्टिफिकेशन को अपनाने के लिये डिवपलर्स के बीच स्वीकृति व्यापक रही है। राज्य सरकार का समर्थन प्रशंसनीय है। राज्य में 760 से अधिक हरित भवन प्रोजेक्ट्स हैं, जो 424 मिलियन वर्ग फुट से अधिक हरित ऐरिया को कवर करती है। इस अवसर पर एसबीपी ग्रुप के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक अमन सिंगला ने कहा कि यह ट्राईसिटी क्षेत्र पडोसी राज्यों के लोगों के बसने, वरिष्ठ नागरिकों के रहने, स्टूडेंट्स एकोमोडेशन और को-वर्किंग जैसे अन्य कारणों के चलते व्यापक वृद्धि दर्ज कर रहा है। इस अवसर पर विशेष सत्रों के आयोजन के दौरान संबंधित विषयों पर गहनता से चर्चा की गई।


0 comments

Comments


bottom of page