• globalnewsnetin

सिख समुदाय की भावनाओं को आहत करने के लिए आपराधिक केस दर्ज किया जाए




शिरोमणी अकाली दल के अध्यक्ष सरदार सुखबीर सिंह बादल ने प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया,कहा कि वीरपाल ने गुरु साहिबान की निंदा की है

चंडीगढ़(गुरप्रीत) : शिरोमणी अकाली दल ने आज चंडीगढ़ पुलिस को शिकायत सौंपकर डेरा  सिरसा समर्थक वीरपाल कौर के खिलाफ गुरु साहिबान की बेअदबी  करके सिख समुदाय की भावनाओं को आहत करने के लिए केस दर्ज करने की मांग की है।

शिरोमणी अकाली दल के अध्यक्ष सरदार सुखबीर सिंह बादल ने सरदार बलविंदर सिंह भूंदड़, प्रोफेसर प्रेम सिंह चंदूमाजरा और डॉ. दलजीत सिंह चीमा सहित पार्टी के प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया और मांग की है कि वीरपाल कौर पर धारा 153,153(ए),153(बी)295(ए) तथा 298(बी) की आईपीसी के तहत केस दर्ज किया जाए ताकि सभी सिखों पंजाबी समुदाय और गुरु नानक नाम लेवा संगत को पुरी दुनिया में न्याय दिलाया जा सके।

शिकायत में कहा गया है कि 14 जुलाई को वीरपाल ने सरदार सुखबीर सिंह बादल की व्यक्तिगत, राजनीतिक, सार्वजनिक और सामाजिक प्रतिष्ठा को धूमिल करने के उददेश्य से अपमानजनक और दुर्भावनापूर्ण आरोप लगा। इसमें कहा गया कि बाद में 15 जुलाई को आरोप दोहराए गए। शिकायत में कहा गया है कि  वीरपाल कौर को कानूनी नोटिस भेजा गया था जिसके बाद उसने स्वीकार किया कि वह कभी भी शिरोमणी अकाली दल  के अध्यक्ष से नही मिली थी और  उनके खिलाफ झूठे आरोप लगाने का अफसोस है। इसमें कहा गया है कि यह साबित हो चुका है कि वीरपाल कौर ने पहले झूठ बोला था इसीलिए यह पता लगाने के लिए गहरी जांच की आवश्यकता है कि पंजाब में शांति और सदभावना को अस्थिर करने के लिए आरोपियों ने किसकें संरक्षण में यह किया।

शिकायत में कहा गया है कि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि भले ही वीरपाल कौर ने अपनी टिप्पणियों के लिए माफी मांगी हो, लेकिन उसने सिख धर्म के खिलाफ बेअदबी भरे शब्द कहें हैं खासतौर से पहले गुरु- गुरु नानक देव जी और दसवें गुरु- गुरु गोंबिद सिंह जी के खिलाफ कहें हैं। इसमें कहा गया है कि इन टिप्पणियों को व्यापक रूप से साजिश की गई है यहां तक कि सिखों की भावनाओं को भड़काने के उददेश्य से किया गया है।

उन्होने कहा कि शिकायत में कहा गया है कि यह सभी जानते हैं कि गुरमीत राम रहीम एक सजायाफ्ता बलात्कारी था उसने महिलाओं के खिलाफ अत्याचार किए थे। इसमें कहा गया है कि गुरु नानक देव जी की तुलना एक सजायाफ्ता बलात्कारी से करना गंभीर अपमान है और इससे पूरे सिख समुदाय की भावनाओं को ठेस पहुंची है। इसमें कहा गया है कि इसके अलावा वीरपाल ने डेरा प्रमुख और गुरु गोबिंद सिंह जी को भी बराबर कहा है जो कि निंदनीय है। इसमें कहा गया है कि शिकायत क्षेत्राधिकार के अनुसार दायर की गई , क्योंकि शिरोमणी अकाली दल का कार्यालय केंद्र शासित प्रदेश के अधिकार क्षेत्र में आता है।

 इस अवसर पर बलविंदर सिंह भूंदड़, डॉ. दलजीत सिंह चीमा, प्रोफेसर प्रेम सिंह चंदूमाजरा , हरिंदरपाल सिंह चंदूमाजरा, चरनजीत सिंह बराड़ और सर्बजोत सिंह साबी भी उपस्थित थे।

 Global Newsletter

  • Facebook
  • social-01-512
  • Twitter
  • LinkedIn
  • YouTube