• globalnewsnetin

138 राजकीय मॉडल संस्कृति वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय तथा 1418 राजकीय मॉडल संस्कृति प्राथमिक विद्यालय


चंडीगढ़ (अदिति) हरियाणा के शिक्षा मंत्री श्री कंवर पाल ने बताया है कि राज्य में 138 राजकीय मॉडल संस्कृति वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय तथा 1418 राजकीय मॉडल संस्कृति प्राथमिक विद्यालय चलाए जा रहे हैं।

यह जानकारी श्री कंवरपाल ने आज हरियाणा विधानसभा के बजट सत्र के दौरान एक सदस्य द्वारा पूछे गए प्रश्न का उत्तर देते हुए दी।

शिक्षा मंत्री ने बताया कि राजकीय मॉडल संस्कृति वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों में शैक्षणिक स्टाफ के कुल स्वीकृत पद 5275 हैं जिनमें से 1688 रिक्तियां हैं तथा राजकीय माडल संस्कृति प्राथमिक विद्यालयों में स्वीकृत पदों की संख्या 12883 जिनमें से 2386 पद रिक्त हैं। इसके अलावा,गैर-शैक्षणिक स्टाफ के 912 स्वीकृत पदों में से 495 पद रिक्त हैं।

उन्होंने बताया कि राजकीय मॉडल संस्कृति वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षकों की पदस्थापना कठिन चयन परीक्षा के बाद की जाती है। राजकीय मॉडल संस्कृति प्राथमिक विद्यालयों में शैक्षणिक पदों को सामान्य पद माना जाता है और इन्हें प्रतिनियुक्ति और सामान्य स्थानांतरण प्रक्रिया के माध्यम से भरा जाता है। उन्होंने बताया कि गैर-शैक्षणिक कर्मचारियों के रिक्त पदों की को पदोन्नति,सीधी भर्ती और स्थानांतरण के माध्यम से भरा जाएगा ।

उन्होंने बताया कि इन विद्यालयों में विभिन्न विषयों के 380 प्राध्यापकों एवं 106 प्राचार्य को साक्षात्कार के माध्यम से अप्रैल एवं जुलाई 2021 में नियुक्त किया गया है। हाल ही में विभिन्न विषयों के 300 प्राध्यापकों को सी ई एन टी ए की चयन प्रक्रिया के माध्यम से फरवरी 2022 में नियुक्ति प्रदान की गई है।

श्री कंवर पाल ने बताया कि राजकीय मॉडल संस्कृति वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों में शैक्षणिक अमले के पद नॉन-कोर पद हैं। इसलिए राजकीय मॉडल संस्कृति वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों में शैक्षणिक हमले की पदस्थापना सेंटर फॉर टीचर एग्रेडेशन के माध्यम से चयन परीक्षण के बाद जारी है।

शिक्षा मंत्री ने बताया कि राजकीय मॉडल संस्कृति प्राथमिक विद्यालयों में शैक्षणिक अमले के पदों को सामान्य पदों के रूप में माना जाता है और इन्हें प्रतिनियुक्ति तथा सामान्य स्थानांतरण प्रक्रिया के माध्यम से भरा जाएगा। इसके अलावा, राजकीय मॉडल संस्कृति वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में गैर-शैक्षणिक अमले के पदों को सामान्य पदों के रूप में माना जाता है और इन पदों को नियमित भर्ती ,स्थानांतरण ,प्रतिनियुक्ति आदि के माध्यम से भरा जाना है। इसलिए इस प्रत्यक्ष कोटे को भरने की मांग कर्मचारी चयन आयोग को भेज दी गई है।

उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने पूरे राज्य के लिए चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के पदों को भरने के लिए सामान्य संवर्धन की नीति पहले से ही तैयार करके लागू कर दी है।

0 comments