भाजपा-जजपा सरकार में कानून व्यवस्था का जनाजा निकल चुका

चंडीगढ़ (अदिति) हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने कहा कि हरियाणा की भाजपा-जजपा सरकार में कानून व्यवस्था का जनाजा निकल चुका है। आज हरियाणा प्रदेश में महाजंगलराज व्याप्त है। अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। जनता भय के साए में जीने को मजबूर है। भाजपा सरकार बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का नारा देती है, लेकिन आज के दिन हमारे हरियाणा प्रदेश में बेटियां सुरक्षित नहीं हैं। यह बातें हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने यहां जारी बयान में कहीं। कुमारी सैलजा ने कहा कि अभी हाल ही में कुरुक्षेत्र में 12वीं कक्षा की नाबालिग छात्रा के साथ गैंगरेप किया गया। हिसार में भी एक 17 वर्षीय कबड्डी खिलाडी के साथ गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया गया है। वहीं पानीपत में एक छात्र की दिनदहाड़े हत्या कर दी गई। ऐसी वारदातें हरियाणा प्रदेश में आम हो गई हैं। कुमारी सैलजा ने कहा कि अपराधियों में भय होना चाहिए शासन का, ताकि कोई भी व्यक्ति अपराध करने से पहले सौ बार सोचे। परंतु आज अपराधियों में भय नाम की कोई चीज नहीं है। सरकार मूकदर्शक बनी हुई है। हरियाणा प्रदेश में अपराध लगातार तेजी से बढ़ रहे हैं। हरियाणा प्रदेश में कोई भी वर्ग सुरक्षित नहीं है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों के अनुसार हरियाणा प्रदेश में साल दर साल अपराधों में तेजी से वृद्धि हो रही है। एनसीआरबी के वर्ष 2019 के आंकड़ों के अनुसार प्रदेश में रोजाना तीन से ज्यादा हत्या, 11 से ज्यादा अपहरण हो रहे हैं। कुमारी सैलजा ने कहा कि इस सरकार में महिलाओं के खिलाफ अपराधों में तेजी से वृद्धि हुई है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2017 में महिलाओं के खिलाफ 11,370 अपराध हुए थे, जो वर्ष 2018 में बढ़कर 14,326 व वर्ष 2019 में बढ़कर 14,683 हो गए। यानी कि हरियाणा प्रदेश में रोजाना महिलाओं के खिलाफ 40 अपराध हो रहे हैं। वर्ष 2017 में 1099 रेप के मामले दर्ज हुए थे, जो वर्ष 2018 में बढ़कर 1296 और वर्ष 2019 में बढ़कर 1480 हो गए। वर्ष 2019 में हरियाणा में गैंग रेप के 159 मामले दर्ज हुए, जिसमें हरियाणा प्रदेश का स्थान पूरे देश में दूसरा है। कुमारी सैलजा ने कहा कि यह आंकड़े इस सरकार में चरमराई हुई कानून व्यवस्था का पर्दाफाश करते हैं। हरियाणा प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था बेहद ही चिंतनीय है। यह और भी चिंता का विषय है कि हरियाणा सरकार कानून व्यवस्था को दुरुस्त करने की बजाय मूकदर्शक बनी हुई है।

 Global Newsletter

  • Facebook
  • social-01-512
  • Twitter
  • LinkedIn
  • YouTube